ताम्बे के बर्तन में पानी रखने से पहले जान लें ये नियम, तभी मिलेंगे फायदे

0
1093

ताम्बे का पानी पिने के फायदे (tambe ke pani ke fayde)

tambe ke pani ke fayde

भारत में तांबे को शुभ धातु माना जाता है और पूजा-पाठ में इसका उपयोग किया जाता है। यह एक कीटाणुनाशक धातु है, जिस कारण बहुत से लोग इससे बने बर्तन को प्रयोग में लाते हैं। सुबह खाली पेट तांबे के बर्तन में रखा पानी पीना स्वास्थ्य के लिए बेहद फायदेमंद होता है। वैज्ञानिक शोधों में भी तांबे के स्वास्थ्य गुणों को प्रमाणित किया जा चुका है। हालांकि गलत तरीकों का इस्तेमाल कर तांबे के बर्तन में पानी पीना सेहत के लिए नुकसानदायक भी हो सकता है। इसलिए तांबे के बर्तन से होने वाले फायदे और नुकसान दोनों की जानकारी जरूर होनी चाहिए। आइए जानते हैं तांबे के बर्तन का इस्तेमाल किस तरह से फायदा और नुकसान पहुंचा सकता है…

बड़े बुजुर्गों से आपने कई बार सुना होगा कि तांबे के बर्तन में पानी पीना सेहत के लिए फायदेमंद होता है।

क्या आप जानते है की ताम्बे के बर्तन में रखा हुआ पानी कितना लाभदायी है ? अगर आप ताम्बे के बर्तन में रखा हुआ पानी पिते है तो आपका ये भी जानना बहुत जरुरी है की इसके जितने फायदे है उतना नुकसान भी हो सकता है |
अगर आप ताम्बे के बर्तन में रखा हुआ पानी इस नियम के अनुसार पिओगे तभी ही आप को फायदे होंगे | नेचुरोपैथी विशेषज्ञ डॉ. रमाकांत शर्मा के मुताबिक यदि तांबे के बर्तन में सात से आठ घंटे के लिए पानी रख दिया जाए तो वो गर्म तासीर का हो जाता है। उसे दोबारा गर्म करने की जरूरत नहीं पड़ती। इसलिए अगर आप सर्दियों में सुबह उठकर तांबे में रखे पानी को गरम करके पीना चाहोगे तो वो बिलकुल आपकी सेहत के लिए ठीक नहीं होगा | उसको आप ऐसे ही पीओ|
ताम्बे के बर्तन में रखा हुआ पानी चार्ज्ड वॉटर होता है |तांबे के बर्तन के पानी में इलेक्ट्रान की उपास्थि होतीहै |
खास दौर पे ताम्बे का उपयोग कोई भी इलेक्ट्रिक उपकरण में होता है और उसको. चार्ज करते समय हम उसे अर्थिंग से बचाने के लिए जमीं पे नहीं रखते हे वैसे ही ताम्बे के पानी में इलेक्ट्रॉन्स की मौजूदगी हो जाती है तो उसको जमीं पे नहीं रखना चाहिए | टेबल और कास्ट के पाटे और मेज पे रखना चाहिए |

tambe ke pani ke fayde

अब ये भी जानना जरुरी है की पानी को कितनी देर तक ताम्बे के बर्तन में रखा जाये | तो आप ये भी जान लीजिये आप पानी का पूरा फायदा लेना चाहते होतो पानी को 8 से 12 घंटे तक ही ताम्बे के बर्तन में रखे | 12 घंटे से ज्यादा किसी हाल में न रखें वर्ना पानी कसैला हो जाता है। वो नुकसान भी कर सकता है।

आप को ये भी जानना जरुरी है कितना पानी पिया जाये और कैसे

तो सबसे पहले रात को पानी ताम्बे के बर्तन में भरे और लकड़ी की पाट और मेज पे रखदीजिए | अब सुबह उठकर खाली पेट ये पानी धीरे धीरे घुट घुट करके पिए | आप ये पानी एक गिलास से सवा लिटर तक ले सकते है ये एकदम से इतना ज्यादा पानी पीना संभव नहीं है तो धीरे धीरे उसकी मात्रा बढ़ाये | और अगर ये पानी सुबह ब्रह्म मुहूर्त में पिया जाये तो ये सबसे अच्छा होगा

तांबेके बर्तन का पानी पिने के कितने फायदे है ये भी जान लीजिये क्योकि बिना फायदे के कोई ऐसा करेगा ही नहीं

1) ताम्बा यानि कॉपर ये purifiyer का काम करता है तो इस से पानी की अशुद्धि दूर हो जाती है |
2) इस पानी को पिने से शरीर के आंतो की सफाई होती है और इससे बिनजरूरी मेद कम होता हे|
3) ये कोलोस्ट्राल को भी कम करने में मदद करता है |
4) त्वचा को चमकाता है |
5) रक्त को शुद्ध करता है |
6) कहा जाता है कि ताम्र जल से पीलिया (Jaundice) में फायदा मिलता है. 7)बैक्टीरिया को खत्म करने में भी तांबे के बर्तन में रखा पानी काफी फायदेमंद माना जाता है.
8)कहा जाता है कि तांबे के बर्तन में डायरिया और पीलिया जैसे रोगों के बैक्टीरियां भी मर सकते हैं.
9) पेट की समस्या (Stomach Problems) जैसे गैस, एसिडिटी (Acidity) से भी छुटकारा मिल सकता है.
10) इसमें मौजूद एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण जोड़ों में दर्द और गठिया की शिकायत होने पर लाभ दे सकते हैं.
11) इस बर्तन में रखे पानी के सेवन से थाइरॉयड ग्रंथि के स्राव संतुलित रहता है। यह पानी अर्थराइटिस दर्द में भी बेहद लाभकारी है।

tambe ke pani ke fayde

कुल मिलाकर तांबे के बर्तन में पानी पीने से आपको कई फायदे हो सकते हैं.

लेकिन आप ये भी जान लीजिये की आपकी जरा सी भी गलती आपको भारी पड़ सकती है
कुछ चीजों को तांबे के बर्तन में रखकर सेवन करना खतरनाक हो सकता है!

भूलकर भी ये गलती न करें

1). अगर आप के पेट में अल्सर है या एसिडिटी की समस्या है तो तांबे के बर्तन का पानी न पिए क्योंकि इसकी तासीर गर्म होती है।
2). एक साथ एक ही बार में ज्यादा पानी पीना नुकसान दायक हो सकता है।
3)ताम्बे के बर्तन में नीम्बू , अचार , दही , छास , सरका, ये सब रखने से उसकी खटास आपकी सेहत बिगाड़ सकती है|
4) तांबे से बने बर्तनों की सफाई का विशेष ध्यान रखना चाहिए। इस बर्तन के अंदर वाले हिस्सों में कॉपर ऑक्साइड की परत (हरे रंग की) जमने लगती है, इसलिए अंदरूनी तले को अच्छे से साफ करें। तांबे के बर्तन में पानी रखने पर जो रासायनिक क्रिया होती है उसी वजह से कॉपर ऑक्साइड की परत जम जाती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here